0

True Horror Stories in Hindi | सच्ची भुतियाँ कहानी एक लड़की की जुबानी

True Horror Stories in Hindi

Real Horror Stories in Hindi Language
True Horror Stories in Hindi : सच्ची भूतिया कहानियाँ – हम सभी ने अपने पुरे जीवनकाल में कम से कम एक न एक बार तो किसी से भूत की कहानी तो सुनी ही होगी कभी अकेले बैठ कर इन सभी चीजों के बारे में सोचो तो दिमाग एक अजीब सी उलझन में फँस जाता हैं की ये चीज़े असल में होती हैं या नहीं. कभी कभी जिन लोगो के मुहँ से ही ये सभी बाते सुनी होती हैं वो ही अक्सर झूठे दिखाई पड़ते हैं या फिर ख्याल आता है की भ्रम में तो कोई भी फसं सकता हैं. कोई जानबूझ कर तो भूत प्रेतों की भ्रमित करने वाले किस्से गड़ेगा नहीं. या फिर ऐसी मंघडन्द कहानियाँ बनाकर किसी को भला क्या हासिल होगा?

Also Check : Thought of the Day Hindi and English

True Horror Stories in Hindi

True Horror Stories in Hindi : पर कभी सोचा हैं क्यों कही चलते हुवे लगता हैं की कोई आपका पीछा कर रहा हैं, क्यों भीड़ में या सुनसान रास्तो में लगातार अनजानी आवाजों से आपको अपना नाम सुनाई पड़ता हैं, क्यों अँधेरा होते ही लगता हैं कोई आपको छुना चाह रहा हैं या कभी कभी अकेली रातो में लगता हैं की कोई आपको लगातार घुर कर देख रहा हो. ये बात तो आपने भी सुनी ही होगी की अक्सर नींद ना आने की सबसे बड़ी वजह यही हैं की कोई नकारात्मक शक्ति हमारे आस पास होती हैं और हमे लगातार इस बात का एहसास करना चाहती हैं की वो यही कही हैं. इसी वजह से हमे नींद नहीं आती.

Also Check : Fear Quotes in Hindi

True Horror Stories in Hindi

True Horror Stories in Hindi : हमारा चाहे इन सब चीजों में विश्वास हो या ना हो लेकिन इस बात से तो हममे से कोई भी मुहँ नहीं मोड़ सकता की भले ही हमने इन शक्तियों को देखा न हो पर महसूस जरुर किया हैं. कई बार शांति भरे माहौल में भी जब ऐसी चीज़े हमारे दिमाग में आती हैं मतलब वो वही होती हैं आपके पास. शायद वही एक कारण आपको अपना एहसास करने की वजह बताने के लिए यहाँ तक ले आया हो जिस वजह से आप ये लेख पढ़ रहे हैं.

Also Check : Sad Quotes on Death

True Horror Stories in Hindi

True Horror Stories in Hindi : कुछ भी मुमकिन हैं. ऐसा कहा जाता हैं की हर वक़्त हम किसी न किसी से घिरे रहते हैं यानी की किसी अकेले कमरे में अकेले रह कर भी हम किसी को सच में महसूस करना चाहे तो कर सकते हैं, कभी कभी जो अंजाना चेहरा हमारे दिमाग में होता हैं वो ही असल आकृति या चेहरा होता हैं उस अनजानी शक्ति का. ये चीज़े असल में क्यों हैं इस दुनिया में. इनके अस्तित्व के पीछे क्या कारण हैं ये प्रश्न ना जाने कब तक प्रश्न के रूप में ही हमारे सामने खड़ा रहेगा. वैज्ञानिक आधार पर भी इसकी पुष्टि हो जाने के बावजूद या तो हम उत्तर जानना नहीं चाहते या फिर जानकार भी अनजान रहने में ही अपनी समझदारी समझते हैं.

Also Check : Swami Vivekananda Inspirational Quotes

 

True Horror Stories in Hindi : यहाँ हम आपको एक परिचित से सुनी हुई कहानी आपको उसी के शब्दों में ये कहानी चाहेंगे :

मैंने कभी विश्वास नहीं किया था इन सब चीजों में लेकिन कभी कभी कुछ ऐसा घटित हो जाता हैं जिसे आप चाह कर भी नहीं नकार सकते, आप मना नहीं कर सकते उस एहसास के लिए जब आपको महसूस होता हैं की कोई पास ना हो कर कुछ तो हैं आप के साथ.

Also Check : Educational Quotes in Hindi

True Horror Stories in Hindi

True Horror Stories in Hindi : ये तब की बात हैं जब मैं अपनी पढाई जारी रखने के लिए घर से हॉस्टल में शिफ्ट हुई थी.
हमारे हॉस्टल के एक दम पीछे रेलवे लाइन थी और वहां से हमेशा रेल की चलने का शोर हम सभी हॉस्टल की लडकियों को बहुत परेशान करता था और साथ ही सब खिड़कियाँ और दरवाज़े हिलना शुरू हो जाते थे.

Also Check : Mahavir’s Incredible Lesson For Life in Hindi

 

True Horror Stories in Hindi : मेरा कमरा चौथी मंजिल पर था और मैं 2 और लडकियों के साथ वहां रहती थी. मुझे अभी भी याद हैं मुझे सिर्फ वहां रहते हुवे 3 या 4 महीने ही हुवे थे की एक रात मैंने और मेरे साथ की लडकियों ने एक औरत की बहुत ही भयानक चिल्लाने की आवाज़ सुनी.

Also Check : Motivational Images for Life

 

True Horror Stories in Hindi : पहले हमने सोचा की ये किसी लड़की की आवाज़ हैं हॉस्टल से लेकिन वास्तव ऐसा कुछ था नहीं. और रोज़ हमे उसी समय पर रातो रात तक ये आवाज़े सुनाई देने लगी थी. हममे से किसी ने किसी को भी इस बारे में नहीं बताया था. धीरे धीरे वो आवाज़े और तेज़ और ज्यादा समय तक रहने लगी.

Also Check : Life related Wallpapers

 

True Horror Stories in Hindi : अगर कभी पानी लेने भी जाना होता था तो वो भी डर डर के ही ला पाते थे. पर फिर भी हमने किसी तरह हिम्मत बाँधी और हम रोज़ की तरह अपना काम करते थे. मुझे कभी कभी रात को बाथरूम जाते वक्त, पानी लेने जाते वक़्त ऐसा महसूस होता था जैसे कोई साथ साथ में मेर बगल में चल रहा हैं. कभी पीछे तो कभी आगे लेकिन मेरी इतनी हिम्मत नहीं हो पाती थी की उसके चेहरे की तरफ देख सकूँ. मैं ऐसे चलने की कोशिश करती थी जैसे मुझे वो इंसान या आत्मा दिखाई नहीं दे रही.

Also Check : Life Quotes Photos

True Horror Stories in Hindi

True Horror Stories in Hindi : अब बात हद से ज्यादा बढ़ चुकी थी. मैंने अपने दोस्तों के साथ सबसे नीचे वाली मंजिल पर रहने का फैसला किया.

और वहां मेरे साथ कुछ ऐसा हुआ जिसे में कभी नहीं भूल सकती. ऊपर वाली मंजिल पर वो एहसास दिन ब दिन इतना बढ़ गया था की अब वो सिर्फ बढ़ ही सकता था. अब मुझे अपने कमरे के एक कोने में एक औरत खड़ी दिखाई देने लगी थी. मुझे लगता था की वो हमेशा मुझे देखती रहती हैं लेकिन वो कभी मेरे पास नहीं आई.

Also Check : Thoughts of Life in Hindi

 

True Horror Stories in Hindi : मेरी राते सिर्फ और सिर्फ खौफ में बीतने लगी थी, नींद ने तो जैसे मुझसे मुहँ मोड़ लिया था और मुझे कुछ समझ नहीं आ रहा था की अब मैं क्या करूँ, किससे बात करूँ. फिर उसके बाद एक रात मैं मरते मरते बची.

Also Check : 8 बेहतरीन दोस्ती Quotes आपकी दोस्ती के नाम।

 

True Horror Stories in Hindi : उस रात मुझे जाने कैसे नींद आ गयी थी मैं अपने बेड की दूसरी तरफ को मुड़ी और अपने बेड के किनारे पर मैंने देखा एक छोटे से बच्चे को जो मुझे घूर रहा था. मैं ठंडी पड़ गयी. चिल्लाने की हिम्मत भी नहीं बची थी, सांस अटक गयी थी. कुछ बोलने की कोशिश कर रही थी लेकिन शब्द मुँह से बाहर नहीं आ रहे थे. पूरा बदन जैसे किसी ने पकड लिया हो.

Also Check : Personality Development in Hindi

 

True Horror Stories in Hindi : मैंने किसी तरह से उस पर अपना हाथ फहराया ये सोच की ये सिर्फ भ्रम हैं मैं उस तक अपना हाथ पहुँचाने की हिम्मत तो नहीं कर सकी लेकिन वो अभी भी वही था.

आखिर में मैं उठी और अपने वार्डन के पास गयी और किसी तरह से उसे पूरी बात बता और ये था जिसे सुनकर मेरे साथ हुई सारी चीजों की गुथी सुलझ गयी थी.

Also Check : How to Choose or Make Your Career in Hindi

True Horror Stories in Hindi

उसने मुझसे कहा :

“मैं खुद इन सब चीजों में विश्वास नहीं करती लेकिन बहुत समय पहले यहाँ पर ट्रेन एक्सीडेंट हुआ था जिससे कई सारे लोगो की जाने चली गयी थी. और ये उसी रेलवे लाइन पर हुआ था जो हमारे हॉस्टल के ठीक पीछे की तरफ हैं. उस घटना के बाद यहाँ के कई लोगो ने बिलकुल वैसा ही महसूस किया हैं जैसा की तुमने मुझे बताया. लेकिन तुम्हे इन सब चीजों को अपने ऊपर हावी नहीं होने देना चाहिए और हिम्मत रखनी चाहिए.
भगवान में विश्वास रहो, कोई तुम्हारा कुछ नहीं बिगाड़ पाएगा.”

एक एक सच्ची घटना पर आधारित अनुभव की कहानी हैं. आप “खन्ना रेलवे आपदा” के बारे में जा कर पढ़ सकते हैं.

Also Check : Who can Donate Blood in Hindi

True Horror Stories in Hindi

Comments

comments