Categories: Hindi Poems

अपनी बात (अतीत के चल-चित्र) महादेवी वर्मा के द्वारा | Apni Baat

समय-समय पर जिन व्यक्तियों से सम्पर्क ने मेरे चिन्तन की दिशा और संवेदन को गति दी है, उनके संस्मरणों का श्रेय जिसे मिलना चाहिए उसके सम्बन्ध में मैं कुछ विशेष नहीं बता सकती। कहानी एक युग पुरानी, पर करुणा से भीगी है। मेरे एक परिचित परिवार में स्वामिनी ने अपने एक वृद्ध सेवक को किसी तुच्छ-से अपराध पर, निर्वासन का दण्ड दे डाला और फिर उसका अहंकार, उस अकारण दण्ड के लिए असंख्य बार माँगी गयी क्षमा का दान भी न दे सका।

ऐसी स्थिति में वह दरिद्र, पर स्नेह में समृद्ध बूढ़ा, कभी गेंदे के मुरझाए हुए दो फूल, कभी हथेली की गर्मी से पसीजे हुए चार बताशे और कभी मिट्टी का एक रंगहीन खिलौना लेकर अपने नन्हें प्रभुओं की प्रतीक्षा में पुल पर बैठा रहता था। नये नौकर के साथ घूमने जाते हुए बालकों को जब वह अपने तुच्छ उपहार देकर लौटता, तब उसकी आंखें गीली हो जाती थीं।

सन् 30 में उसी भृत्य को देखकर मुझे अपना बचपन और उसे अपनी ममता के घेरे हुए रामा इस तरह स्मरण आये कि अतीत की अधूरी कथा लिखने के लिए मन व्याकुल हो उठा। फिर धीरे-धारे रामा का परिवार बढ़ता गया और अतीत-चित्रों में वर्तमान के चित्र भी सम्मिलित होते गये। उद्देश्य केवल यही था कि जब समय अपनी तूलिका फेर कर इन अतीत-चित्रों की चमक मिटा दे, तब इन संस्मरणें के धुँधले आलोक में मैं उसे फिर पहचान सकूँ।

इनके प्रकाशन के सम्बन्ध में मैंने कभी कुछ सोचा ही नहीं। चिन्तन की प्रत्येक उलझन के हर एक स्पन्दन के साथ छापेखाने का सुरम्य चित्र मेरे सामने नहीं आता। इसके अतिरिक्त इन संस्मरणों के आधार प्रदर्शनी की वस्तु न होकर मेरी अक्षय ममता के पात्र रहे हैं। उन्हें दूसरों से आदर मिल सकेगा, इसकी परीक्षा से प्रतीक्षा रुचिकर जान पड़ी।

इन स्मृति-चित्रों में मेरा जीवन भी आ गया है। यह स्वाभाविक भी था। अँधेरे की वस्तुओं को हम अपने प्रकाश की धुँधली या उजली परिधि में लाकर ही देख पाते हैं; उसके बाहर तो वे उन्नत अन्धकार के अंश हैं, वह बाहर रूपान्तरित हो जाएगा। फिर जिस परिचय के लिए कहानीकार अपने कल्पित पात्रों को वास्तविकता से सजाकर निकट लाता है, उसी परिचय के लिए मैं अपने पथ के साथियों को कल्पना का परिधान पहनकर दूर की सृष्टि क्यों करती ! परन्तु मेरा निकटता-जनित आत्म-विज्ञापन उस राख से अधिक महत्व नहीं रखता, जो आग को बहुत समय तक सजीव रखने के लिए ही अंगारों को घेरे रहती है। जो इसके पार नहीं देख सकता, वह इन चित्रों के हृदय तक नहीं पहुँच सकता।

प्रस्तुत संग्रह में ग्यारह संस्मरण-कथाएँ जा सकी हैं। उनसे पाठकों का सस्ता मनोरंजन हो सके, ऐसी कामना करके मैं इन क्षत-विक्षत जीवनों को खिलौनों की हाट में नहीं रखना चाहती। यदि इन अधूरी रेखाओं और धुँधले रंगों की समष्टि में किसी को अपनी छाया की एक रेखा भी मिल सके, तो यह सफल है अथवा अपनी स्मृति की सुरक्षित सीमा से इसे बाहर लाकर मैंने अन्याय किया है।

यह भी पढ़े: Mahadevi Verma | महादेवी वर्मा का जीवन परिचय और कविताएँ

Share
Published by
Hind Patrika

Recent Posts

भारतीय सेना भर्ती 2020 – सैनिक क्लर्क | Soldier Clerk Recruitment 2020

भारतीय सेना ने सोल्जर क्लर्क के पद के लिए 12TH, 10TH पूरा करने वाले उम्मीदवारों…

3 weeks ago

भारतीय सेना भर्ती 2020 सैनिक, ट्रेडमैन और क्लर्क Indian Army Recruitment 2020

भारतीय सेना ने सोल्जर की स्थिति के लिए 12th, 10th, 8th पूरा करने वाले उम्मीदवारों…

3 weeks ago

रेल विकास निगम आरवीएनएल भर्ती 2020 में नौकरी | RVNL Recruitment 2020

देहरादून में आरवीएनएल भर्ती 2020-21 में 1 मुख्य परियोजना प्रबंधक रिक्तियों के लिए भर्ती आयी…

3 weeks ago

दिल्ली मेट्रो DMRC भर्ती 2020 | DMRC Recruitment 2020

डीएमआरसी (दिल्ली मेट्रो रेल कॉर्पोरेशन) ने महाप्रबंधक के लिए भर्ती निकाली है। डीएमआरसी ने भर्ती…

3 weeks ago

बीओबी वित्तीय समाधान भर्ती 2020 | BOB Financial Solutions Recruitment 2020

बैंक ऑफ़ बड़ौदा ने मुंबई में सहायक प्रबंधक / वरिष्ठ अधिकारी रिक्तियों के लिए भर्तियां…

3 weeks ago

ओडिशा राज्य सहकारी बैंक में 786 भर्तियां | OSCB Recruitment 2020

ओडिशा राज्य सहकारी बैंक ने तीन पदों के लिए कुल 786भर्तियां निकली हैं। इस भर्ती…

3 weeks ago