कपटियो का साथ | Kapatiyo Ka Sath

कपटियो का साथ | Kapatiyo Ka Sath

कपटियो का साथ | Kapatiyo Ka Sath : किसी वन में मदोत्कट नाम का एक सिंह रहता था। उसके व्याघ्र, कौआ और गीदड़ ये तीन सेवक थे। एक दिन उन्होंने कथनक नामक एक ऊंट देखा जो अपने काफिले से भटककर वन में इधर-उधर घूम रहा था। उसको देखकर सिंह ने कहा-‘अरे ! यह तो कोई अजीब जीव हैं. जाकर मालुम करो कि यह कोई वन्य-प्राणी हैं या कोई ग्रामवासी?” सिंह की बात सुनकर कौए ने कहा-‘स्वामी ! इस जीव का नाम ऊंट है। यह ग्रामवासी है। आप इसे मार डालिए।’ सिंह ने कहा- “मैं घर आए अतिथि का वध नहीं करता क्योंकि कहा भी गया है कि विश्वस्त और निर्भर होकर अपने घर आए शत्रु को भी मारना उचित नहीं होता। यदि कोई उसे मारता है तो उसे सी ब्राह्मणों के वध करने जितना पाप लगता है। अत: तुम उसे अभय-दान देकर यहां ले आओ,

Also Check : Short Films in Hindi 

कपटियो का साथ | Kapatiyo Ka Sath

कपटियो का साथ | Kapatiyo Ka Sath : जिससे मैं उसके यहां आने का कारण पूछ सकूं।’ सिंह का आदेश सुनकर उसके अनुचर ऊंट के पास गए और उसे आदरपूर्वक । सिंह के पास लिवा लाए। ऊंट ने सिंह को प्रणाम किया और बैठ गया। सिंह ने जब उसके वन में विचरने का कारण पूछा तो उसने अपना परिचय देते हुए बताया कि वह अपने काफिले से बिछुड़कर भटक गया है। सिंह ने जब यह सुना तो उससे कहा-‘कथनक ! अब तुम्हें ग्राम में जाकर पुन: भार ढोने की आवश्यकता नहीं है। इसी वन में हमारे साथ रहो और हरी-हरी घास चरकर आनंद उठाओ।” इस प्रकार उस दिन से वह ऊंट भी उनके साथ रहने लगा। उसके कुछ दिन बाद मदोत्कट सिंह का एक उन्मत्त हाथी के साथ घमासान युद्ध हुआ | हाथी के तीखे दंत-प्रहारों से सिंह अधमरा हो गया। सिंह की इस हालत के कारण उसके अनुचर भूखे रहने लगे। क्योंकि सिंह जब शिकार करता था तो उसके छोड़े हुए भोजन से ही उनकी क्षुधा शांत होती थी। स्वयं सिंह भी भूखा रहने लगा।

Also Check : Have a Look on Politics in Hindi 

कपटियो का साथ | Kapatiyo Ka Sath : अपनी और अपने अनुचरों की यह दुर्दशा देखकर एक दिन सिंह ने कहा-तुम लोग ऐसे किसी जीव की खोज करो, जिसको मैं इस हालत में भी मारकर तुम सबके भोजन की व्यवस्था कर सकूं।’ सिंह की आज्ञा पाकर उसके अनुचर शिकार की तलाश में निकले। जब कहीं कोई शिकार न मिला तो कौए और गीदड़ ने परस्पर विचार-विमर्श किया। गीदड़ बोला-‘मित्र ! इधर-उधर भटकने से क्या लाभ ? क्यों न आज इस कथनक ऊंट को ही मारकर उसका भोजन किया जाए ?’ कौआ बोला-‘बात तो तुम्हारी ठीक है, किंतु स्वामी ने उसको अभय-दान दिया हुआ है। ऐसी हालत में वह कैसे मारा जा सकता है ?’ गीदड़ ने कहा-“मैं कोई ऐसा उपाय करूंगा, जिससे स्वामी उसे मारने को तैयार हो जाएं। तुम लोग यहीं रहो, मैं स्वयं स्वामी से निवेदन करता हूं।’

Also Check : Real Love Story 

कपटियो का साथ | Kapatiyo Ka Sath : गीदड़ ने तब सिंह के पास जाकर कहा-‘स्वामी ! हमने सारा जंगल छान मारा, किंतु पशु हाथ नहीं लगा। अब तो हम इतने भूखे-प्यासे हो गए हैं कि एक कदम भी आगे नहीं चला जाता। आपकी दशा भी ऐसी ही है। आज्ञा दें तो कथनक को ही मारकर उसके मांस से अपनी भूख शांत की जाए।’ गीदड़ की बात सुनकर सिंह ने क्रोध से कहा-‘पापी ! आगे कभी यह बात मुख से निकाली तो मैं उसी क्षण तेरे प्राण ले लूगा। जानता नहीं कि मैंने उसे अभय-दान दे रखा है ?’ गीदड़ बोला-‘स्वामी ! मैं आपको वचन-भंग करने के लिए तो नहीं कह रहा। आप स्वयं उसका वध न कीजिए, किंतु यदि वह स्वयं आपकी सेवा में प्राणों की भेंट लेकर आए, तब तो उसके वध में कोई दोष नहीं है। यदि वह ऐसा नहीं करेगा तो हम सब आपकी सेवा में अपने शरीर की भेंट लेकर आपकी भूख शांत करने को आएंगे। जो प्राण स्वामी के काम न आएं, उनका क्या उपयोग ? स्वामी के नष्ट होने पर उसके अनुचर स्वयं नष्ट हो जाते हैं। स्वामी की रक्षा करना उनका धर्म है। ‘ यह सुनकर सिंह सोच में पड़ गया। फिर कुछ सोच-विचारकर बोला-‘यदि तुम्हारा यही विश्वास है,

Also Check : Earn Money Online in Hindi

कपटियो का साथ | Kapatiyo Ka Sath : तब मुझे कोई आपत्ति नहीं है।’ सिंह से आश्वासन पाकर गीदड़ अपने अन्य साथियों के पास आया और उन्हें साथ लेकर सिंह के समक्ष उपस्थित हो गया। गीदड़ ने उन्हें रास्ते में ही अपनी योजना से अवगत करा दिया | सबसे पहले कौए ने सिंह से कहा-‘स्वामी ! मुझे खाकर अपनी प्राण रक्षा कीजिए ताकि मुझे स्वर्ग में स्थान मिले क्योंकि स्वामी के लिए अपने प्रारों को उत्सर्ग करने वाला स्वर्ग जाता है, वह अमर हो जाता है।’ तब गीदड़ बोला-‘अरे कौए ! तू इतना छोटा है कि तुझे खाने से स्वामी की भूख बिल्कुल भी नहीं मिटेगी। तेरे शरीर में मांस ही कितना है जो कोई खाएगा ? स्वामी को मैं अपना शरीर अर्पण करता हूं।’ गीदड़ ने जब सिंह को अपना शरीर भेंट करना चाहा तो व्याघ्र ने उसे एक ओर हटाते हुए कहा-‘तू भी बहुत छोटा है। तेरे तो नाखून ही इतने विषैले हैं कि जो खाएगा, उसे जहर चढ़ जाएगा। इसलिए तू ‘अभक्ष्य’ है। मैं स्वयं को स्वामी के लिए अर्पण करूंगा, जिससे उनकी भूख मिट सके।’ उन सब लोगों की बातें सुनकर कथनक ऊंट सोचने लगा कि इन सबने मीठी-मीठी बातें कहकर स्वामी की दृष्टि में अपना स्थान बना लिया है अत: उसे भी वैसा ही निवेदन करना चाहिए।

Also Check : Love Story in Hindi 

कपटियो का साथ | Kapatiyo Ka Sath : अपने मन में यह निश्चय करके उसने व्याघ्र से कहा-‘महाशय ! आपने ठीक कहा है। किंतु आप भी तो तीक्ष्ण नाखूनों वाले जीव हैं। आप स्वामी के सजातीय हैं। आपका मांस स्वामी कैसे खा सकते हैं ? क्योंकि कहा गया है कि जो व्यक्ति मन से भी अपनी जाति का अनिष्ट चाहता है, उसके दोनों लोक नष्ट हो जाते हैं। अत: आप आगे से हट जाइए। स्वामी को मुझे अपना शरीर अर्पण करने दीजिए।’ व्याघ्र तो इसी अवसर की प्रतीक्षा कर रहा था। वह तुरंत एक ओर को हट गया। ऊट ने आगे बढ़कर सिंह से निवेदन किया-‘स्वामी ! यह सब आपके लिए ‘अभक्ष्य’ हैं, अतः आप मेरे शरीर का मांस खाकर अपनी भूख शांत कीजिए । ताकि मुझे सद्गति प्राप्त हो सके।’ ऊंट का इतना कहना था कि व्याघ्र उस पर टूट पड़ा। उसने ऊंट को चीर-फाड़कर रख दिया। सिंह सहित सभी ऊंट के मृत शरीर पर टूट पड़े और तुरंत उसको घट कर डाला | यह कथा सुनाकर संजीवक ने कहा-मित्र!

Also Check : Earn Money Online Free in India

कपटियो का साथ | Kapatiyo Ka Sath : तभी मैं कहता हूं कि छल-कपट से भरे वचन सुनकर सहज ही उस पर विश्वास नहीं कर लेना चाहिए। आपका यह राजा भी क्षुद्र प्राणियों से घिरा हुआ है। मैं इस बात को भलीभांति जान गया , हूं। ऐसा प्रतीत होता है कि किसी दुष्ट सभासद के कान भरने पर ही वह मुझसे नाराज हुआ है। ऐसी स्थिति में मुझे क्या करना है, कृपया आप ही बताएं।’ दमनक बोला-‘ऐसे स्वामी की सेवा करने से तो विदेश गमन करना ही अच्छा संजीवक बोला-‘ऐसी हालत में, जब मेरा स्वामी मुझसे नाराज है, मुझे बाहर नहीं जाना चाहिए। अब तो युद्ध के अलावा और कोई श्रेयस्कर उपाय मुझे सूझ ही नहीं रहा है। ” यह सुनकर दमनक विचार करके लगा कि यह दुष्ट तो युद्ध के लिए तत्पर दिखाई पड़ता है। यदि इसने अपने तीक्ष्ण सींगों से स्वामी पर प्रहार कर दिया तो अनर्थ ही हो जाएगा। किंतु स्वामी और सेवक के बीच लड़ाई होना ठीक नहीं है। क्योंकि शत्रु की शक्ति जाने बिना ही जो वैर बढ़ाता है वह शत्रु के सम्मुख उसी प्रकार अपमानित और पराजित होता है जैसे एक टिटिहरे ने समुद्र का किया था।’ संजीवक ने पूछा-‘वह कैसे ? तब दमनक ने उसे यह कथा सुनाई।

Also Check : Funny Quote in Hindi

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.