Merry Christmas Story in Hindi | मैरी क्रिसमस की कहानी

Merry Christmas Story in Hindi | मैरी क्रिसमस की कहानी

Merry Christmas in Hindi : क्रिसमस की कहानी की जड़ सृष्टी के प्रारंभ में ही बोई गयी थी और इसका असर समय सीमा रहित अनंत काल तक है जो हमेशा हमेशा के लिए रहेगा और अगर कोई इस कहानी की सुन्दरता और सामर्थ्य और वजन को समझने की आशा रखता हैं तो इसे सच्ची कहानी होने के नाते इस कहानी की शुरुवात की शुरुवात भी शुरुवात से ही करनी होगी.

Also Check : नौकरी करने में इतने व्यस्त न हो जाएँ कि पैसे बनाना भूल जाएँ

Merry Christmas Story in Hindi

 

समय के अस्तित्व से पहले, किसी नक्षत्र के रौशनी देने से भी पहले परमात्मा परमेश्वर वहां थे जहाँ कोई नहीं था, कुछ नहीं था. उनके ही शब्दों से ब्रह्माण्ड की रचना शुरू हुई. उन्होंने ही सुखी जमीं को सागर के रूप में उठने की आज्ञा दी और उनके ही शब्दों से सारे महाद्वीपों को अपनी परछइयो में लिपटी गहराइयो से उभारकर उन्होंने ही उन बड़े बड़े जमीन के टुकडो को पानी में खड़ा किया लेकिन तब तक सारी सृष्टी सांस थामे रुकी हुई थी जब तक की स्वयं परमेश्वर इस धरती पर ना उतरे जिसे उन्होंने बनाया था और अपने ही हाथो से उन्होंने मिटटी से एक और जीवन की रचना की उन सब जीवनों के बाद जिसमे इस जीवन से सोचने समझने की क्षमता कुछ कम ही थी.

Also Check : दौलतमंद दिखकर ही आप दौलतमंद बन सकते हैं। 

Merry Christmas Story in Hindi

Merry Christmas in Hindi : ये एक ऐसी रचना थी जो अपनी रचियता को जानने के साथ साथ उसके अलावा भी बहुत कुछ जानने में सक्षम थी. और वह रचना थी मनुष्य की जिसमे की एक औरत और एक आदमी था जिनका नाम ईव और एडम था. जो भी परमेश्वर ने बनाया उसमे से सबसे सुंदर रचना मनुष्य की ही थी और ये बात ईश्वर अच्छे से जानते थे इसी कारण उनके सबसे प्रिय भी मनुष्य यानी की आदमी और उसकी संगिनी थी. परमेश्वर ने उन दोनों के अंदर ऐसी शक्ति उन्हें प्रदान की जिस कारण वे साथ में थे और जिस कारण उनका परमेश्वर से भी लगाव सबसे बढ़कर था और वह शक्ति थी प्रेम की शक्ति. परमेश्वर ने उन दोनों को पृथ्वी सौप दी थी ताकि वो परमेश्वर और अपने आपस के प्रेम में मग्न रहे और पृथ्वी पर राज़ कर सके. जितनी भी आने वाली मनुष्य की पीढ़ी थी वो सभी इन दोनों से ही जन्मी जानी थी और इन दोनों पर ही आगे आने वाली मनुष्य जाति का भविष्य निर्भर था. और यही आगे आने वाली पीढियों के माता पिता कहलाते लेकिन इस ब्रह्माण्ड के साथ सब कुछ बहुत अच्छा नहीं चल रहा था वो इस कारण क्युकी लुस्य पर जो स्वर्ग दूतो में सबसे महान और सबसे सुंदर था और जिसे ईश्वर अपने सभी दूतो में सबसे ज्यादा प्रिय मानते थे उस पर अहंकार का ज़हर पनप रहा था और उसने परमेश्वर के खिलाफ बगावत शुरू की और जिस कारणवश उसे स्वर्ग से फेक दिया गया. वो अपने अहंकार के रोग को इस निष्कलंक पृथ्वी पर ले आया था उसके मन में ख्याल आया की अगर वो परमेश्वर पर राज़ नहीं कर सकता तो क्या वो परमेश्वर की सबसे प्रिय रचना पर तो राज़ कर सकता था. ऐसा सोच कर उसने पृथ्वी की जमीन पर पाँव रखने की कोशिश की लेकिन वो असफल रहा तो उसके दिमाग में एक तरकीब सूझी की अगर वो मोर को पटा ले तो वो उसे वहां उनके पास ले जाएगा जिनसे मिलने के लिए वो धरती पर आना चाहता था.

Also Check : ज़्यादातर लोग इतने आलसी होते हैं कि अमीर नहीं बन सकते। 

Merry Christmas Story in Hindi

Merry Christmas in Hindi : और वो ऐसा करने में सक्षम भी रहा. उसने मोर को कहा की वो एक सर्प का वेश धारण करेगा और उसे (मोर को) लुय्स को सर्प के वेश में मुहँ में रख कर ईव के सामने ले जाना हैं. मोर उसकी बात के झांसे में आ चूका था. और ईव को देखते ही मोर ने ठीक वैसा ही किया जैसा की लुय्स ने उसे कहा था उसने वहां आते ही ईव के सामने लुय्स को उगल दिया उसके तुरंत बाद ही मोर अँधा हो चूका था उसे अपने कर्मो की सजा मिल गयी थी और लुय्स ईव को अपने तरफ करने में एक बार फिर कामयाब हो चूका था. उसके बाद ईव लुय्स के कहने पर एडम को भी लुय्स की तरफ करने में सफल रही. ऐसा कर के एडम और ईव सर्प के साथ हो लेते हैं और वो परमेश्वर को अपनी पीठ दिखा कर बाकी रची हुई चीजों को अपने परमेश्वर से बढ़कर प्रेम और भरोसा करने लग जाते हैं और इस कारण व इस प्रकार पाप संसार में प्रवेश करता हैं और जो जीवन था वो मृत्यु के परदे के पीछे घुट जाता हैं लेकिन उसी घडी में परमेश्वर अपनी योजनाओं को कार्यरत कर रहा था. उस समय कहा गया था की जल्द भविष्य में एक उद्धारकर्ता भेजा जाएगा जिसे अदभुत युक्ति करने वाला, शक्तिशाली और अनंत काल का पिता और शान्ति का राजकुमार कहा जाएगा और वो संसार को पाप से बचाएगा लेकिन अभी नहीं उसमे अभी काफी समय था.

Also Check : कोई भी पैसा कमा सकता है, धन भेद भाव नहीं करता 

Merry Christmas Story in Hindi
Merry Christmas in Hindi : तब तक एडम और ईव के बच्चे भी अपने माता पिता के पाप का बंधन भी आगे ले गए और उनके पाप का प्रदुषण भी. और सारे मानव जाति अपने ही स्वार्थ लाभ के अधीन हो गयी.
Merry Christmas in Hindi : परमेश्वर से अनजान जिनके स्वरुप में उन्हें रचा गया था और जो उनके आनंद का एक मात्र स्रोत थे. परमेश्वर ने भविष्य वक्ताओं को भेजा जो लोगो को परमेश्वर के वायदे को याद दिलाते की वे उनके लिए एक उद्धारकर्ता भेजेंगे लेकिन वो भविष्य वक्ता भी सोच के हैरान थे की कब तक? परमेश्वर! कितना और वक़्त लगेगा? की आप आओगे और इस संसार में चल रहे पाप की गठरी को यहाँ से दूर फेंक दोगे और सब फिर से सुंदर कर दोगे. लेकिन परमेश्वर शांत थे. और कुछ लोग यह भी सोच रहे थे की कही परमेश्वर अपने लोगो को भूल तो नहीं गये और पाप की आधीनता में उन्हें हमेशा के लिए छोड़ तो नहीं दिया. लेकिन परमेश्वर कुछ भुला नहीं था और समय आ गया था जब उनका चुना हुआ उधारकर्ता को वो इस पाप के चुंगुल में फंसी हुई धरती पर प्रकट करने वाले थे. स्वर्ग स्तम्भ ख़ामोशी में देखता रहा और इंतज़ार कर रहा रहा था पल पल उस पल का जब ईश्वर के स्वरुप में उनकी संतान जन्म लेने वाली थी. परमेश्वर के पुत्र ने मानव जाति के स्वरुप में यीशु नामक शिशु में जन्म लिया जो अनुग्रह और प्रेम से भरपूर था और जो जल्द ही अपने ही पवित्र शरीर में इस मानव जाति के पाप के ज़हर को अपने अंदर समा लेने वाला था.

Also Check : एक अद्भुत रहस्य

Merry Christmas Story in Hindi

Merry Christmas in Hindi : पवित्र और धर्मी सृष्टीकर्ता परमेश्वर सारे मानव जाति के पाप को लेने और उनके ही विद्रोह के बंधन को अपने आप में लेकर जो की न्याय पूर्ण सजा जिसके हम लायक थे, जिसमे हम हक़दार था उन्होंने वो अपने खुद पर ले लिया और इसी लिए उस पहली क्रिसमस की रात को उस पहले ईश्वर के पुत्र को जिसके हाथो ने खुद तारो के समूह को बनाया था अपने माँ के आँचल को पकड़ रखा था तब तक जब तक की ख़ामोशी से अपने जानो को वो परमेश्वर के पास लौटा लाता. २०११ साल पहले यीशु मसीह जो ईश्वर की संतान थे इस जगत में आए और उस पाप के बंधन को खुद पर लिया जिसके असली हक़दार हम थे. और उन्होंने पाप के बंधन को तोड़ कर अपने मृत्यु द्वारा क्षमा और परमेश्वर के साथ संगती का विशाल द्वार हमारे लिए खोल दिया क्युकी जिसने जीवन को अपने शब्दों द्वारा रचा था वो मृत्यु द्वरा भी नहीं रह सकता था. लेकिन सवाल यही था की अगर उद्धारकर्ता आया था तब भी ये संसार आज भी टूटी अवस्था में क्यों हैं.

Also Check : Amazing Antarctica Facts in Hindi

Merry Christmas Story in Hindi
Merry Christmas in Hindi : हम आज भी एक सिद्ध जगत में नहीं रहते. ये जगत आज भी नफरत, शौक, जिद्द के अन्धकार तले दबा हुआ हैं.

Also Check : विधवा की किस्मत

Merry Christmas Story in Hindi

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.