Categories: Hindi Poems

स्मरण प्रेमचंद महादेवी वर्मा के द्वारा | Samaran Premchand

प्रेमचंदजी से मेरा प्रथम परिचय पत्र के द्वारा हुआ। तब मैं आठवीं कक्षा की विद्यार्थिनी थी!। मेरी ‘दीपक’ शीर्षक एक कविता सम्भवत: ‘चांद’ में प्रकाशित हुई। प्रेमचंदजी ने तुरन्त ही मुझे कुछ पंक्तियों में अपना आशीर्वाद भेजा। तब मुझे यह ज्ञात नहीं था कि कहानी और उपन्यास लिखने वाले कविता भी पढ़ते हैं। मेरे लिए ऐसे ख्यातनामा कथाकार का पत्र जो मेरी कविता की विशेषता व्यक्त करता था, मुझे आशीर्वाद देता था, बधाई देता था, बहुत दिनों तक मेरे कौतूहल मिश्रित गर्व का कारण बना रहा।

उनका प्रत्यक्ष दर्शन तो विद्यापीठ आने के उपरान्त हुआ। उसकी भी एक कहानी है। एक दोपहर कौ जब प्रेमचंदजी उपस्थित हुए तो मेरी भक्तिन ने उनकी वेशभूषा से उन्हें भी अपने ही समान ग्रामीण या ग्राम-निवासी समझा और सगर्व उन्हें सूचना दी–गुरुजी काम कर रही हैं।

प्रेमचंदजी ने अपने अट्टहास के साथ उत्तर दिया–तुम तो खाली हो। घडी-दो घड़ी बैठकर बात करो।

और तब जब कुछ समय के उपरान्त मैं किसी कार्यवश बाहर आई तो देखा नीम के नीचे एक चौपाल बन गई है। विद्यापीठ के चपरासी, चौकीदार, भक्तिन के नेतृत्व में उनके चारों ओर बैठे हैं और लोक-चर्चा आरम्भ है।

प्रेमचंदजी के व्यक्तित्व में एक सहज ? संवेदना और ऐसी आत्मीयता थी, जो प्रत्येक साहित्यकार का उत्तराधिकार होने पर भी उसे प्राप्त नहीं होती। अपनी गम्भीर मर्मस्थर्शनी दृष्टि से – उन्होंने जीवन के गंभीर सत्यों, मूल्यों का अनुसंधान किया और ‘ अपनी सहज – सरलता से, आत्मीयता’ से उसे सब ओर दूर-दूर तक पहुंचाया।

जिस युग में उन्होंने लिखना आरम्भ ‘किया ‘था, उस समय हिन्दी कथा-साहित्य – जासूसी और तिलस्मी कौतूहली जगत् में ही सीमित था। उसी बाल- सुलभ कुतूहल में – प्रेमचन्द उसे एक व्यापक धरातल पर ले आये, जो सर्व सामान्य था। उन्होंने साधारण कथा, मनुष्य की साधारण घर-घर की कथा, हल-बैल की कथा, खेत-खलि-हान की कथा, निर्झर, वन, पर्वतों की कथा सब तक इस प्रकार पहुंचाई कि वह आत्मीय तो थी ही, नवीन भी हो गई।

प्राय: जो व्यक्ति हमें प्रिय होता है, जो वस्तु हमें प्रिय होती है हम ” उसे देखते हुए ‘ थकते नहीं। जीवन का सत्य ही ऐसा है। जो आत्मीय है वह चिर नवीन भी है। हम उसे बार-बार देखना चाहते हैं। कवि के कर्म से कथाकार का कूर्म भिन्न होता है। ‘कवि अन्तर्मुखी रह सकता है और जीवन की गहराई से किसी सत्य को खोज कर फिर ऊपर आ सकता है। लेकिन कथाकार को बाहर-भीतर दोनों दिशाओं में शोध करना पडता है, उसे निरन्तर सबके समक्ष रहना पड़ता है। शोध भी उसका रहस्य- मय नहीं हो सकता, ‘एकान्तमय नहीं हो सकता। जैसे गोताखोर जो समुद्र में’ जाता है, अनमोल मोती खोजने के लिए, वहीं रहता है और – मोती मिल जाने पर ऊपर आ जाता है। ‘ परन्तु नाविक को तो अतल गहराई का ज्ञान भी रहना चाहिए और ज्वार-भाटा भी समझना- चाहिए, अन्यथा वह किसी दिशा में नहीं जा सकता।

प्रेमचंद ने जीवन के अनेक संघर्ष झेले और किसी संघर्ष में उन्होंने पराजय की अनुभूति नहीं प्राप्त की। पराजय उनके जीवन में कोई स्थान नहीं रखती थी। संघर्ष सभी एक प्रकार से पथ के बसेरे के समान ही उनके लिए रहे। वह उन्हें छोड़ते चले गये। ऐसा कथाकार जो जीवन को इतने सहज भाव से लेता है, संघर्षों को इतना सहज मानकर, स्वाभाविक मानकर चलता है, वह आकर फिर जाता नहीं। उसे मनुष्य और जीवन भूलते नहीं। वह भूलने के योग्य नहीं है। उसे भूलकर जीवन के सत्य को ही हम भूल जाते हैं। ऐसा कुछ नहीं है कि जिसके सम्बन्ध में प्रेमचंद का निश्चित मत नहीं है। दर्शन, साहित्य, जीवन, राष्ट्र, साम्प्रदायिक एकता, सभी विषयों पर उन्होंने विचार किया है और उनका एक मत और ऐसा कोई निश्चित मत नहीं है, जिसके अनुसार उन्होंने आचरण नहीं किया। जिस पर उन्होंने विश्वास किया, जिस सत्य को उनके जीवन ने, आत्मा ने स्वीकार किया उसके अनुसार उन्होंने निरन्तर आचरण किया। इस प्रकार उनका जीवन, उनका साहित्य दोनों खरे स्वर्ण भी हैं और स्वर्ण के खरेपन को जांचने की कसौटी भी है।

यह भी पढ़े: Mahadevi Verma | महादेवी वर्मा का जीवन परिचय और कविताएँ

Share
Published by
Hind Patrika

Recent Posts

भारतीय सेना भर्ती 2020 – सैनिक क्लर्क | Soldier Clerk Recruitment 2020

भारतीय सेना ने सोल्जर क्लर्क के पद के लिए 12TH, 10TH पूरा करने वाले उम्मीदवारों…

3 weeks ago

भारतीय सेना भर्ती 2020 सैनिक, ट्रेडमैन और क्लर्क Indian Army Recruitment 2020

भारतीय सेना ने सोल्जर की स्थिति के लिए 12th, 10th, 8th पूरा करने वाले उम्मीदवारों…

3 weeks ago

रेल विकास निगम आरवीएनएल भर्ती 2020 में नौकरी | RVNL Recruitment 2020

देहरादून में आरवीएनएल भर्ती 2020-21 में 1 मुख्य परियोजना प्रबंधक रिक्तियों के लिए भर्ती आयी…

3 weeks ago

दिल्ली मेट्रो DMRC भर्ती 2020 | DMRC Recruitment 2020

डीएमआरसी (दिल्ली मेट्रो रेल कॉर्पोरेशन) ने महाप्रबंधक के लिए भर्ती निकाली है। डीएमआरसी ने भर्ती…

3 weeks ago

बीओबी वित्तीय समाधान भर्ती 2020 | BOB Financial Solutions Recruitment 2020

बैंक ऑफ़ बड़ौदा ने मुंबई में सहायक प्रबंधक / वरिष्ठ अधिकारी रिक्तियों के लिए भर्तियां…

3 weeks ago

ओडिशा राज्य सहकारी बैंक में 786 भर्तियां | OSCB Recruitment 2020

ओडिशा राज्य सहकारी बैंक ने तीन पदों के लिए कुल 786भर्तियां निकली हैं। इस भर्ती…

3 weeks ago