World Water Day in Hindi | विश्व जल दिवस

World Water Day in Hindi

World Water Day in Hindi : 22 मार्च का दिन विश्व जल दिवस के अवसर पर लोगो में खूब जोर शोर से मनाया जाने वाला दिन हैं. 1993 में संयुक्त राष्ट्र द्वारा 22 मार्च को हर साल जल दिवस मनाने का निर्णय किया गया था. सब लोगो के बीच पानी की महत्वता एवं संरक्षण को लेकर जागरूकता फैलाने के लिए हर साल विश्व जल दिवस के रुप में मनाने की घोषणा की गयी. पानी हम सभी प्राणियों के जीवन के लिए अहम संसाधन हैं. हम मनुष्य इतने लापरवाह हैं की हमे अपने अलावा किसी की कोई फ़िक्र नहीं हैं.

Also Check : Benefits of Drinking Warm Water in Hindi

World Water Day in Hindi

जितना हम ने नयी नयी खोजे की हैं, नए नए आविष्कार किये हैं उससे कई ज्यादा हमने अपने सभी संसाधनों का बुरी तरीके से दुरुपयोग किया और इससे केवल हमारी ही हानि नहीं बल्कि जितने भी जीव जंतु इस पृथ्वी पर रहते हैं सभी के अस्तित्व को हमने अपने लोभ द्वारा विलुप्तिकरण की ओर पहुंचा रहे हैं.

Also Check : 5 Benefits of Water in Hindi

World Water Day in Hindi

World Water Day in Hindi : जैसे की जंगलो को काटना, वृक्षों को काटना, वायु को दूषित करना, और सबसे अधिक पानी को प्रदूषित करना. अपने घर को साफ़ रखने के लिए हम घर का कचरा उठा कर नदियों और नहरो में फेंक देते हैं लेकिन आखिर में वो जल जहर बन कर हमारे पेट में जा कर हमे कई बीमारियों का शिकार बनाता हैं जिसका एक ही कारण हैं और उस कारण के पीछे केवल हम ही जिम्मेदार हैं.
आज के इस शुभ दिन पर हम सभी को प्रण लेना चाहिए की किसी भी तरह से पानी को प्रदूषित होने से बचाएँगे. अपने पर्यावरण का ख्याल रखेंगे.

Also Check : Importance of Water in Hindi

World Water Day in Hindi

World Water Day in Hindi 

विश्व जल दिवस के थीम की सूची हम यहाँ पर जारी कर रहे हैं (World Water Day in Hindi) :

वर्ष 1993 के विश्व जल दिवस उत्सव का थीम था “शहर के लिये जल”।
वर्ष 1994 के विश्व जल दिवस उत्सव का थीम था “हमारे जल संसाधनों का ध्यान रखना हर एक का कार्य है”।
वर्ष 1995 के विश्व जल दिवस उत्सव का थीम था “महिला और जल”।
वर्ष 1996 के विश्व जल दिवस उत्सव का थीम था “प्यासे शहर के लिये पानी”।
वर्ष 1997 के विश्व जल दिवस उत्सव का थीम था “विश्व का जल: क्या पर्याप्त है”।
वर्ष 1998 के विश्व जल दिवस उत्सव का थीम था “भूमी जल- अदृश्य संसाधन”।
वर्ष 1999 के विश्व जल दिवस उत्सव का थीम था “हर कोई प्रवाह की ओर जी रहा है”।
वर्ष 2000 के विश्व जल दिवस उत्सव का थीम था “21वीं सदी के लिये पानी”।

 

Also Check : एक किसान की पुकार

World Water Day in Hindi
वर्ष 2001 के विश्व जल दिवस उत्सव का थीम था “स्वास्थ के लिये जल”।
वर्ष 2002 के विश्व जल दिवस उत्सव का थीम था “विकास के लिये जल”।
वर्ष 2003 के विश्व जल दिवस उत्सव का थीम था “भविष्य के लिये जल”।
वर्ष 2004 के विश्व जल दिवस उत्सव का थीम था “जल और आपदा”।
वर्ष 2005 के विश्व जल दिवस उत्सव का थीम था “2005-2015 जीवन के लिये पानी”।
वर्ष 2006 के विश्व जल दिवस उत्सव का थीम था “जल और संस्कृति”।
वर्ष 2007 के विश्व जल दिवस उत्सव का थीम था “जल दुर्लभता के साथ मुंडेर”
वर्ष 2008 के विश्व जल दिवस उत्सव का थीम था “स्वच्छता”।
वर्ष 2009 के विश्व जल दिवस उत्सव का थीम था “जल के पार”।
वर्ष 2010 के विश्व जल दिवस उत्सव का थीम था “स्वस्थ विश्व के लिये स्वच्छ जल”।

Also Check : World Consumer Rights Day Essay in Hindi

World Water Day in Hindi
वर्ष 2011 के विश्व जल दिवस उत्सव का थीम था “शहर के लिये जल: शहरी चुनौती के लिये प्रतिक्रिया”।
:वर्ष 2012 के विश्व जल दिवस उत्सव का थीम था “जल और खाद्य सुरक्षा”।
वर्ष 2013 के विश्व जल दिवस उत्सव का थीम था “जल सहयोग”।
वर्ष 2014 के विश्व जल दिवस उत्सव का थीम था “जल और ऊर्जा”।
वर्ष 2015 के विश्व जल दिवस उत्सव का थीम था “जल और दीर्घकालिक विकास”।
वर्ष 2016 के विश्व जल दिवस उत्सव के लिए विषय होगा “जल और नौकरियाँ”
वर्ष 2017 के विश्व जल दिवस उत्सव के लिए विषय “अपशिष्ट जल” होगा।
वर्ष 2018 के विश्व जल दिवस उत्सव के लिए विषय “जल के लिए प्रकृति के आधार पर समाधान” होगा।

Also Check : Sweet Morning Wishes

World Water Day in Hindi

4 comments

    1. बिलकुल सही कहा पवन जी आपने!! जल नहीं तो कल नहीं… जल के बिना हम अपने भविष्य की कल्पना भी नहीं कर सकते. जल होगा तभी कल होगा. जल ही जीवन हैं…

  1. विश्व जल दिबस २२ मार्च को मनाया जाता है। “जल ही जीवन है”, ये सभी कहते है, पर इसकी महत्व को कोई समझने के लिए तैयार नहीं है, आये दिन देखने को मिल रहा है, तालाब भरे जा रहे है, पानी नस्ट किये जा रहे है, कल खुले छोड़ दिए जाते है, जिससे शुद्ध जल बर्बाद होता जाता है, अगर ऐसा ही हाल रहा तो बहुत जल्दी ही लोग बून्द-बून्द के लिए तरसने को मजबूर हो जायेंगे जब तक लोगो में जल के साथ साथ प्रकृति के विनष्ट होते संसाधन को बचने की मुहीम नहीं चलेगी. और इसके महत्व को बारीकी से नहीं समझाया जायेगा तब तक लोग इसे विनष्ट करने से चुकने वाले नहीं। फिर भी बड़े जोर- शोर से हमलोग जल -दिवस और पर्यावरण दिवस मना रहे है. जल क्या प्रकृति की हर सम्पदा को बचाना हमलोगों का परम कर्तब्य होना चाहिए. जल को नष्ट होने से बचाए। कविराज…

    1. बिलकुल सही स्पष्ट किया हैं संतोष कुमार वर्मा जी आपने. हम आपके विचारों से पूरी तरह से सहमत हैं. लोगो में जल दिवस मनाने से ज्यादा उत्साह जल को बचाने में होना चाहिए.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.