Merry Christmas Wishes in Hindi | Quotes Text Messages

Merry Christmas Wishes in Hindi | Quotes Text Messages

Merry Christmas Wishes in Hindi | Quotes Text Messages

Merry Christmas Wishes

Merry Christmas Wishes : अब तो काउंटडाउन भी शुरू हो गया है | नार्थ पोल में रहने वाले नन्हें – नन्हें एल्फ सांता की गिफ्ट बनाने वाली फैक्ट्री में तेज़ी से गिफ्ट पैक भी करने लग गए होंगे | हो भी क्यूँ ना, बस कुछ ही दिन जो शेष बचे हैं क्रिसमस को आने में | जितनी तैयारी सांता और एल्फ कर रहे हैं उतनी ही तैयारी विश्वभर के लोग भी कर रहे हैं | अगर आप स्कूल में हो तो हो सकता है कि आपको प्रोजेक्ट में सांता बनाने को मिल भी गया हो | लेकिन सिर्फ प्रोजेक्ट बना लेना या विश लिखकर मोज़े लटका देना नहीं होता क्रिसमस | इसके लिए होने लगती है कई दिनों पहले से ढेरों तैयारियां | आओ आपको बताते है क्रिसमस और उससे जुडी कुछ ख़ास बातें |

यह भी पढ़ें : Good And Evil Quotes in Hindi | अच्छे और बुरे के कोट्स का संग्रह

नौ दिनों में मना लो जीसस को

जैसे हिन्दू धर्म में दिवाली कईं दिनों का त्यौहार होता है, वैसे ही क्रिसमस भी एक दिन का त्यौहार नहीं होता | इसकी तैयारी तो नौ दिन पहले से ही शुरू हो जाती है | इसे नोवेना कहते हैं | इनमें हर दिन नई – नई प्रार्थनाएं की जाती है | इसाई धर्म के लोग क्रिसमस की तयारियों में लग जाते हैं और यह सेलिब्रेशन क्रिसमस ईव और क्रिसमस मनाने के साथ ही चलता रहता है | यह अगली आठों रातों में हर रात एक मोमबत्ती जलाकर यानी हनुक्का मनाकर न्यू – ईयर तक जाता है | अगर आपको लग रहा है कि इसके बाद सेलिब्रेशन ख़त्म हो जाता है तो जनाब आप गलत हैं | यह तो अगले चालीस दिन बाद कैंडलमास पर ख़त्म होता है |

जिंगल ऑल द वे

Jingle Bells

जिंगल बेल्स जिंगल बेल्स….. हाँ, यहीं वाली और इस जैसी ढेरों कैरोल इन दिनों चर्च हो या घर, हर जगह सुनाई देती है | इनकी शुरुआत यूरोप में कईं साल पहले हुई थी पर वे क्रिसमस कैरोल नहीं बल्कि साधारण गीत ही थे, जो कि क्रिसमस के आने से कई दिन पहले से ही गाये जाते थे | कैरोल गाने वाले लोग इनके जरिये मदर मैरी र्और जीसस की कहानियाँ बताते थे |

 

जी ललचाये रहा ना जाये !

Christmas Cake

क्रिसमस की बात हो और यमी – टेस्टी केक ना हो, ऐसा तो हो ही नहीं सकता | क्रिसमस में सजावट और पूजा के साथ ही क्रिसमस के चार दिन पहले से ही लोग घरों में केक बनाना शुरू कर देते हैं | न केवल केक, इसके अलावा और भी लजीज पकवान जैसे टर्की, पुडिंग, जूस आदि की खुशबू घरों से आने लगती है | क्रिसमस केक हमारे बर्थडे केक जैसा क्रीम से लदा – फदा नहीं बल्कि फलों और ढेर सारे नट्स से भरपूर रहता है |

यह भी पढ़ें : God Quotes in Hindi | ईश्वर के कोट्स का संग्रह

तारीख पर था कनफ्यूज़न

Santa Claus

जानते हो दोस्तों, पहले जमाने में क्रिसमस की एक्चुअल तारीख को लेकर काफी कनफ्यूज़न था | कईं चर्च जनवरी में क्रिसमस मनाते तो कुछ दिसम्बर में | पर रोम के एक बिशप जूलियन प्रथम ने सन 350 के नए केलिन्डर के हिसाब से 25 दिसम्बर को क्रिसमस मनाने की घोषणा कर दी और तब से इसी दिन क्रिसमस मनाते हैं |

 

तस्वीर बनी हकीक़त

Christmas Tree

बच्चों को क्रिसमस ट्री सजाने का मौका मिला 19वी शताब्दी में | इससे पहले लोग पेड़ों को झूमर की तरह छत पर उल्टा लटका भर देते थे | 19वी शताब्दी की शुरुआत में ब्रिटेन में क्रिसमस ट्री को फलों की छोटी – छोटी गुडिया, जिंजर ब्रेड के घर आदि से सजाने की परम्परा शुरू हुई | दरअसल, इस तरह से डेकोरेट किये गए क्रिसमस ट्री की एक तस्वीर लन्दन के एक अखबार में छपी हुई थी | इसके बाद से ही अमेरिका और ब्रिटेन में क्रिसमस ट्री सजाने का ट्रेंड शुरू हो गया |

 

बर्फ नहीं धूप में क्रिसमस

Christmas in Summer

आप सबको लगता होगा कि क्रिसमस का मतलब है सर्दियों की छुट्टियां मनाते हुए सांता का इंतज़ार, पर ऐसा सब जगह नहीं होता है | साउथ पोल में क्रिसमस गर्मियों की छुट्टियों में होता है पर तारीख वहीँ होती है | दरअसल वहां इस समय गर्मियां होती हैं | कुछ अफ़्रीकी देशों, न्यूज़ीलैण्ड, ऑस्ट्रेलिया और दक्षिण अमेरिका के मूल निवासी गर्मियों में क्रिसमस सेलिब्रेट करते हैं | वहां क्रिसमस बर्फ में खेलते हुए नहीं बल्कि धूप में मस्ती करते हुए मनाया जाता है |

 

पहचानो सांता क्लॉज़ को

Santa Claus Images

सांता क्लॉज़ नाम सुनते ही आप सबके मन में लाल रंग के कपडे पहने बड़ी सफ़ेद दाढ़ी वाले व्यक्ति की तस्वीर बन जाती होगी | जानते हो दोस्तों, सांता क्लॉज़ की यह तस्वीर सन 1931 में मशहूर हुई, जब कोल्ड्रिंक बनाने वाली एक कंपनी ने क्रिसमस के लिए विज्ञापन निकाले | इसमें सांता क्लॉज़ ने ऐसी पोशाक पहनी थी | पर सोचने वाली बात यह है कि सच में सांता और उसके रेडियर्स नार्थ पोल से आते हैं ? आखिर कौन है यह सांता ? दरअसल चौथी शताब्दी में एक बिशप थे संत निकोलस | वे पता लगाते कि किस बच्चे ने अच्छा काम किया जिसे उपहार दिया जाए | उसके बाद वे चोगा पहनकर निकलते और बच्चों को उपहार देते | उनका यह तरीका खूब प्रसिद्ध हुआ | आज जिन सांता क्लॉज़ की हम कल्पना करते है, उनका चेहरा इन्हीं से मिलता जुलता है |

यह भी पढ़ें : Disappointment Quotes in Hindi | निराशा के कोट्स का संग्रह

तो दोस्तों उम्मीद करते हैं की आपको हमारा क्रिसमस पर यह लेख पसंद आया होगा | क्रिसमस को हँसते खेलते हुए मुस्कुराकर मनाइए, और हो सके तो इस दिन किसी गरीब या जरूरतमंद की मदद कर उनका एवं अपना क्रिसमस सफल बनाएँ |
सबको हमारी तरफ से Merry Christmas !!

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.