Home Hindi Quotes Poem on Child Labour in Hindi | बाल श्रमिको पर बेहतरीन कवितायेँ

Poem on Child Labour in Hindi | बाल श्रमिको पर बेहतरीन कवितायेँ

by Hind Patrika

Poems on Child Labour in Hindi

Poems on Child Labour in Hindi : यहाँ हम आपके लिए बाल श्रम (Child Labour) (बाल मजदुर) (बाल श्रमिक) से सम्बंधित कविताए यानी की poems का संग्रह लेकर आएं हैं. आशा करते हैं आपको पसंद आएगा. अगले पोस्ट में आपको अंग्रेजी भाषा में कविताओं का संग्रह मिलेगा. इन ख़ास कविताओं का collection हमने आपके लिए तैयार किया हैं. पढियेगा जरुर  🙂

Poems on Child Labour in Hindi

बच्चे हैं हम

 

बच्चे हैं हम
हमे जीने दो
रोटी, कपडे
के लालच में
न ज़हर हमारे
बचपन में घोलो
क्या बचपन मेरा
फिर आएगा
दो घूंट ख़ुशी के
पी लेने दो
बच्चे हैं हम
हमे जी लेने दो

Poems on Child Labour in Hindi

Poems on Child Labour in Hindi

बंद करो बाल श्रम

कहा गये वो सुंदर फूल

कहा गई वो मुस्कान

कहा उड़ गई सारी धुल

क्यों चुप हो गए गाने

झूले अब थम से गए

पिता खड़ा खामोश है

मेंदान भी जम से गए

हर घर आगन मदहोश है

बहुत ढूँढा तो पता चला कि

वो सब बच्चे वहा है

जहा पर खुशिया बेरंग है

बचपन जीना मना है

वहा बच्चो से बंगले बनवाये जाते है

चुड़ीयाँ, कंगन, बीडी भी बनवाई जाती है |

Poems on Child Labour in Hindi

यही सही वक्त है कुछ करने का, कुछ बदलने का,

क्योकि कोमल बच्चे जूझ रहे है

कष्ट भरे अंगारों में, और रोते है अंधरे में

बंद करो ये बाल श्रम

बच्चो का यह क्रूर समझोता

नहीं रहगा कोई भी बच्चाइसकी आड़ में अब रोता

बंद करो बाल श्रम

Poems on Child Labour in Hindi

Poems on Child Labour in Hindi

 

पढने की जब उम्र थी उसकी,पढ़

पढने की जब उम्र थी उसकी,पढ़ नहीं पाया
मात-पिता निज स्वार्थ ने उसको काम लगाया
रह गया अंगूठा छाप आज करता मजदूरी
नहीं पढाया उसको क्यूँ ,थी क्या मजबूरी
नन्ही अंगुली ने बीडी के धागे बांधे
भार उठाया उम्र से ज्यादा दूखे काँधे
मंद रोशनी में बुनता था रात गलीचा
सुबह उठा मालिक का सींचा बाग़ बगीचा
रंग रासायनिक से की हैउसने वस्त्र छपाई
झूठी प्लेट उठा कर जिसने भूख मिटाई
वर्कशॉप में मार वो, जब औजार से खाता
नन्हा दिल बस सुबक सुबकता रो नहीं पाता
सड़क पार करता ,ले जा कर चाय केतली
जान बचा ट्रेफिक से लड़ता सड़क हर गली
ढाबे में हम जब भी जाकर खाना खाते
‘छोटू ‘दे आवाज उसीसे जल मंगवाते
मेज पोंछता नन्हे हाथ जब रखते थाली
थोड़ी सी गलती पे ,खाता ढेरों गाली

Poems on Child Labour in Hindi

बाल श्रमिक पर चर्चा केवल हम सब करते
हालत उनकी देख के झूठी आहें भरते
सोचो अपने बच्चों से भी,क्या हम ये करवाते
करवाना तो दूर, सोच कर , नयन भर आते
आँखों में ‘ छोटू’ स्थान पे पुत्र को लाओ
फिर उस बालक को अपना इन्साफ दिलाओ
बाल श्रमिक निषेध दिवस है, आज मना लो
निष्ठुर हाथों के जुल्मों से बाल बचा लो

 

Poems on Child Labour in Hindi

Poems on Child Labour in Hindi

Khatam Karo Baal Majduri

Poems on Child Labour in Hindi

Tera beta tujhko sabse accha lagta hai
Teri beti tujhko sabse acchi lagti hai
Roz khilone roz chocolates tu unke liye laata hai
Har ghari tu unhe apne dil me basata hai
Jis bacchey se tu kaam karata, kya woh kisi ka beta nahi
Jis bacchi se tu ghar saaf karata, kya woh kisi ki beti nahi
Majboori ka fayda tu kyu unka uthata hai
Unhe do paise de kar, kyu unka bhagwaan ban jaata hai
Wey bhi bacchey hai, maan ke saachey hai
Takdeer se kacchey hai, par phir bhi acchey hai
Kabhi tu unki jagah apne baccho ko toh rakh ke dekh
Phir samajh aayega tujhko, un baccho ki badnasibi ka lekh
Padhna chahte, likhna chahte , khelna woh bhi chahte hai
Par kya kare ,tum jaise aamir unhe apna gulaam banate hai
Wey bhi bacchey hai , maan ke saachey hai
Takdeer se kacchey hai ,par phir bhi acchey hai

Poems on Child Labour in Hindi

Sarkar ne jo neeyam banaye , usey todne me tum maahir ho
Kuch paise de kar kaam karane waale tum unke dil ke kaatil ho
Mat chodo sarkar pe aur kadam badhao us gareeb parivaar ki aur
Kuch paise do unhe inki padhai ke liye, taaki woh bh keh sake yeh ki
Mera beta mujhko sabse accha lagta hai
Meri beti mujhko sabse acchi lagti hai
Main galat tha jo inse itna kaam karata tha
Aur inke khelne ki umar se hi khelta jaata tha
Yeh bhi bacchey hai , maan ke saachey hai
Doctor engineer banauga inhe , yeh mere bacchey hai

Poems on Child Labour in Hindi

Poems on Child Labour in Hindi

बाल मजदुर मजबूर हैं

बाल मजदुर मजबूर हैं

कंधो पर जीवन का बोझ
किताबो की जगह हैं रद्दी का बोझ

जिस मैदान पर खेलना था
उसको साफ़ करना ही जीवन बचा

जिस जीवन में हँसना था]
वो आंसू पी कर मजबूत बना

पेट भरना होता क्या हैं
आज तक उसे मालुम नहीं
चैन की नींद सोना क्या हैं
आज तक उसने जाना नहीं

बच्पन कहाँ खो गया
वो मासूम क्या बताएगा

जीवन सड़क पर गुज़र गया
वो यादे क्या बताएगा

कभी तरस भरी आँखों से
वो दो वक़्त का खाता हैं

कभी धिक्कार के धक्के से
वो भूका ही सो जाता हैं

बाल मजदूरी पाप हैं
नियम तो बना दिया

ये उसके हित में हैं
या जीवन कठिन बना दिया

जब आज खतरे में हैं
वो क्या जीवन बनाएगा
जब पेट की भूक ही चिंता हैं
तो वो क्या पढने जाएगा

बाल मजबूर मजबूर हैं
नियम और सताता हैं
अगर देश को मजबूत बनाना हैं
तो इस मज़बूरी को हटाना हैं

Poems on Child Labour in Hindi

Child labour Slogan |  Slogans in Hindi language |  Hindi font | India | India hindi slogans on child labour in India | Child Labour Quotes in Hindi | Child Labour Slogans in Hindi | Hindi Quotes on Child Labour | Hindi Slogans on Child Labour | Quotes on Child Labour in Hindi | Quotes on Child Labour in Hindi Language | Save Child Labour Slogans | Slogan Against Child Labour in Hindi | Slogan for Child Labour in Hindi | Slogan in Child Labour in Hindi | Slogan on Child Labour in Hindi | Slogans for Child Labour in Hindi | Slogans on Child Labour in Hindi | Slogans on Child Labour in Hindi Language | Stop Child Labour Quotes in Hindi | Baal Majduri Ke Slogans | Baal Shram Ke Slogans Hindi Mein | Child Labour Poem in Hindi | Child Labour Poems in Hindi | Child Labour Poem in English | Child Labour Poem in Angrezi Bhasha | Poems on Child Labour in Hindi

You may also like

3 comments

Murari kumar June 12, 2017 - 10:56 am

पेट की आग न जाति धर्म देखे न देखे मजबुरी
पेट की आग बुझाने को बाल श्रम होजाती जरूरी
घर की आग बुझाने को दौड़ पड़े पड़ोसी
पेट की आग बुझाने को करनी पड़ती बाल मजदूरी

Reply
admin June 12, 2017 - 11:28 am

ये पंक्तियाँ दिल को छू जाने वाली हैं मुरारी कुमार जी ! 🙂 आपका धन्यवाद 🙂

Reply
Tarun singh April 23, 2019 - 6:01 pm

Bal shramik par Kavita

Reply

Leave a Comment

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.