Home Akbar Birbal Stories in Hindi Sabse Acha Shastr सबसे अच्छा

Sabse Acha Shastr सबसे अच्छा

by Hind Patrika

Sabse Acha Shastr | Akbar Birbal Stories in Hindi

Sabse Acha Shastr | Akbar Birbal Stories in Hindi

Sabse Acha Shastr | Akbar Birbal Stories in Hindi : एक दिन बादशाह अकबर के दरबार में चर्चा चल रही थी। बादशाह अकबर यह जानना चाहते थे कि बचाव क लिए सबसे अच्छा शस्त्र कौन-सा है। कुछ दरबारियों ने तलवार का नाम लिया, तो कुछ ने चाकू कहा। तो कुछ ने भाला कहा। तब बादशाह अकबर ने बीरबल से भी वही प्रश्न पूछा। बीरबल ने जवाब में कहा ‘महाराज, यदि कोई सबसे अच्छा शस्त्र होता तो हर व्यक्ति उसी को ही प्रयोग करता। मेरे ख्याल से मुसीबत तथा खतरनाक परिस्थिति में जो शस्त्र हाथ में हो, वही सबसे अच्छा शस्त्र होता है।” बादशाह अकबर ने कहा, “बीरबल मैं तुमसे सहमत नहीं हूँ।” बीरबल ने सोचा कि मुझे यह बात बादशाह के सामने सिद्ध करनी चाहिए। अगले दिन बीरबल अपनी बात को सिद्ध करने की पूरी तैयारी कर चुका था। हमेशा की तरह बीरबल व बादशाह अकबर शहर घूमने निकले। बीरबल बादशाह को एक तंग गली की ओर ले गया। चलते-चलते अचानक एक पागल हाथी उनके सामने आ गया। उसे देखकर बादशाह घबरा गए। बादशाह अपनी तलवार की सहायता से हाथी को रोकना चाहते थे परंतु वह जानते थे कि अकेली तलवार की सहायता से पागल हाथी को नहीं रोका जा सकता। बादशाह के पास इतना समय भी नहीं था कि तंग गली से पीछे की और भाग पाते। तभी बीरबल ने दीवार के पास एक पिल्ले को लेटे देखा।

Sabse Acha Shastr | Akbar Birbal Stories in Hindi

उसने पिल्ले को उठाकर हाथी की तरफ उछाल दिया। इस प्रकार फेंके जाने पर पिल्ला डर गया। जैसे ही वह हाथी की सूंड से टकराया, उसने सूंड को कसकर पकड़ लिया। अपनी सूंड को इस प्रकार पकड़े जाने से हाथी भयभीत हो गया। जब पिल्ला हाथी की सूंड से फिसलकर गिरने लगा तो उसने अपने दाँतों तथा पंजों से हाथी की सूड को कसकर पकड़ लिया। पिल्ले से छुटकारा पाने के लिए हाथी पीछे की ओर भाग गया। गली तंग होने के कारण वह अपनी सूंड भी नहीं हिला पा रहा था। जब हाथी पीछे की ओर मुड़ गया, तब बादशाह अकबर की जान में जान आई। उन्होंने अपने माथे से पसीना पोंछा और राहत की साँस ली। तब बीरबल बोला, ‘महाराज इस परिस्थिति में एक छोटा पिल्ला हमारे हाथ आया और हमारा सुरक्षात्मक शस्त्र बनकर उसने हमारी सुरक्षा की। क्या आप कभी सोच सकते थे कि एक पिल्ला भी शस्त्र बन सकता है? अब आप समझ गए होंगे कि मैंने क्या कहा था।” बादशाह अकबर सब कुछ समझ गए और अपना जीवन बचाने के उपलक्ष्य में इनाम स्वरूप अपना मोतियों का हार बीरबल को दे दिया तथा शस्त्रों के विषय में महत्वपूर्ण सीख ली।

और कहानियों के लिए देखें : Akbar Birbal Stories in Hindi

You may also like

Leave a Comment

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.